Thursday, 12 December 2013

मैं और मेरा

मानव  ! जरा  ठहर  आइना   तो  देख  , क्या  तूने  इस  जीवन से  कुछ  पायाहै
कभी  बैठ कर  विचार कर चिन्तन कर, क्या  कोई  अच्छा  कर्म कमाया है  ?
            बचपन व्यर्थ बिताया तूने  मैं का  पौधा  लगाया है ।
             भरी  जवानी में  भी  मैं हूँ  ,  मैं  हूँ  मेरी  भार्या है ।
पर   चिन्तन को दोस्त बनाकर  ,मन में  मैल बढ़ाया है  ।
हर पल देख  कमी औरों में   अपना मोल गंवाया  है ।
               मैं और मेरा  मैं और मेरा , मन में  यही समाया है 
             छीन झपट कर  हक  औरों  का अपना  मान  गिराया है ।
छोड़ गए जब बन्धु सखा सब  ,तो  थोडा  पछताया है  ।
नहीं  मानता  फिर भी ये मन मैं  और मेरा  गाया है 
            अब भी  वक्त है कुछ  थोड़ा  सा  संतों ने बतलाया है
            करो  समर्पण  इस  मैं  पन  का  जिसने  तुम्हें गिराया है ।
मतिमंद  हाय  तूने  नरतन को  दाग  दीना
            सारी  उमर  गंवाई   हरि का  न नाम  लीना  ।
यह  खेत  था  सुधा का  समझा न  बुद्धि  हीना
हरि नाम रस  का  प्याला  लाजिम  था  तुझको पीना  ।
       नर  से  बन  जा  देव  ,   देव  से  योगी  बन   दिखलादे ।
        अमृत पुत्र  तू  ही  ईश्वर  का  धरती  स्वर्ग बनादे  ।

No comments:

Post a Comment