Wednesday, 23 October 2013

स्तुति कालिका माँ

जय  जय    जग जननी  देवि  ,सुर  नर  मुनि  असुर  सेव    ,
भुक्ति   मुक्ति  दायिनी  ,भय  हरणी  कलिका माँ ।
जय  महेश  भामिनी अनेक  रूप  धारिणी , 
समस्त  लोक  स्वामिनी  दुःख  हरणी  कालिका माँ  ।
मंगल  मुद  सिद्धि  सदन  ,पूर्ण  चन्द्रिका  वदन  
ताप  हरण  तिमिर  हरण  सूर्य  किरण  मालिका ।
हाथ  में  त्रिशूल  ढाल  ,साथ  में  धनुष  वाण   ,
दलनि मलनि  दानव   समूह प्रचण्ड  कलिका माँ  ।
दू:सह   दुःख  दोष  दलनि   दिव्य  पट भव्य  भूषण   धरणि  , 
भंजन  भव  कुटिल  भार  पाप  प्रक्षालिका  माँ  ।
रघुपति  पद परम  प्रेम  तुलसी  चाहों  यह  नेम  ,
देवि  ह्व़े प्रसन्न    पाहि  प्रणत  पालिका  माँ  ।

No comments:

Post a Comment