Wednesday, 25 September 2013

मैं गुनहगार हूँ

आपसे ऐ  प्रभु  !हम  गिला  क्या करें  ,
               आप  तो  हमको  निशिदिन  बुलाते  रहे  ।
हम  ही  खुद  आपसे  दूर  जाते  रहे
                   आप  तो  निशिदिन  हमको  बुलाते  रहे  ।
आपने  तो  कभी   मुख  मोड़ा  नहीं  ,
                हम  ही  खुद  आपसे   दूर   जाते  रहे  ।

ऐ  !  मेरे  सदगुरु  अब  दया  कीजिये  ,
            अब  तो बिगड़ी   हमारी   बना  दीजिये
सबकी नैया  किनारे   लगाते  रहे  ,
           हम  ही  खुद  आपसे  दूर जाते  रहे  ।

जागी  सोयी  हुई  भाग्य  रेखा नहीं  ,
             हमने  अपने  गुनाहों को देखा  नहीं ।
दूसरों   को इशारे    दिखाते  रहे 
          हम   ही   खुद   आपसे   दूर  जाते  रहे  ।

हमने   बांधा   कभी  प्रेम  धागा  नहीं  ,
          दिलमें  मिलने   का अरमान  त्यागा  नहीं 
बस  जुवानी  तेरे   गीत  गाते  रहे 
          हम   ही   खुद  आपसे   दूर  जाते  रहे    ।

No comments:

Post a Comment